बड़ी खबरबिलासपुररायपुरस्वास्थ्य

बड़ी ख़बर। छत्तीसगढ़ हेल्थ फेडरेशन के प्रतिनिधि मंडल का स्वास्थ्य सचिव से हुई औपचारिक चर्चा, स्वास्थ्य सचिव ने वेतन विसंगति का प्रस्ताव शासन को भेजने की बात कही, मांगो के संबंध में निर्णय होते तक चलेगा हड़ताल : प्रतिनिधि मंडल

रायपुर/बिलासपुर। छत्तीसगढ़ स्वास्थ्य फेडरेशन द्वारा 21 अगस्त से अनिश्चितकालीन हड़ताल राजधानी में जारी है। जिसमे पूरे प्रदेश के 40 हजार स्वास्थ्यकर्मी जिसमे चिकित्सक, नर्सिंग संवर्ग कर्मचारी, और ग्रामीण स्वास्थ्य संयोजक शामिल है।

मांगो को लेकर स्वास्थ्य सचिव द्वारा कलेक्टर रेड क्रॉस भवन में हेल्थ फेडरेशन के पदाधिकारियों को चर्चा के लिए बुलाया गया , जिसमे प्रतिनिधमंडल द्वारा 5 सूत्रीय मांगो को उनके समक्ष रखा गया। उनके द्वारा शासन को वेतन विसंगति सहित 5 सूत्रीय मांगो के संबंध में प्रस्ताव भेजने की बात कही गई है।

लेकिन फेडरेशन के पदाधिकारियों का कहना है की उनके द्वारा अनेक बार हड़ताल किए गए है और इसी तरह केवल प्रस्ताव भेजा गया है लेकिन आज तक उन प्रस्ताव को स्वीकृति नहीं दी गई है इसलिए इस बार भी वेतन विसंगती सहित 5 सूत्रीय मांग पूरी होगी इस बात पर भरोसा कैसे किया जाए? जब तक प्रस्ताव की फाइल वित्त विभाग में माननीय मुख्यमंत्री जी सहमति नही देते तब तक भरोसा करना मुश्किल होगा। पूर्व के आंदोलन में भी इस तरह की कार्यवाही होकर ठंडे बस्ते में डाल दिया गया था। इसमें ये कहावत चरितार्थ होती है की ” दूध से जला बालक भी दही को फूंक –फूंक कर पीता है” इसलिए फेडरेशन के पदाधिकारियों द्वारा अपने सदस्यों से चर्चा उपरांत यह निर्णय लिया गया की मांगो के संबंध में जब तक प्रस्ताव को स्वीकृति नहीं दी जाती तब तक हड़ताल जारी रहेगा।

हेल्थ फेडरेशन द्वारा धरना स्थल पर वेतन विसंगति रूपी रावण का पुतला दहन कर सरकार को यह संदेश दिया की हमारी वेतन विसंगति को दूर किया जाये। जब तक मांगे पूरी नहीं हो जाती तब तक आंदोलन जारी रहेगा।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!